अपने देश की सुरक्षा के लिए परमाणु बम बनाने वाले भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिक मानव जीवन की रक्षा के लिए कैंसर की दवा बनाने के काम में भी दिन-रात जुटे हुए हैं । इसी कड़ी में उन्होंने ‘रामपत्री’ पौधे से कैंसर की एक नई दवा भी बनाई है जो दुनियाभर में कैंसर रोगियों के जीवन की रक्षा करने में बहुत मददगार हो सकती है । इससे पहले बार्क कैंसर के कोबाल्ट थेरैपी उपचार के लिए ‘भाभाट्रोन’ नाम की मशीन भी बना चुका है जिसका इस्तेमाल आज दुनिया के कई सारे देशों में हो रहा है ।

देश के परमाणु कार्यक्रम के जनक एवं स्वप्नदृष्टा होमी जहांगीर भाभा के नाम पर मुंबई में स्थापित भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र :बार्क: देश के इस महान दिवंगत वैज्ञानिक के सपनों को पूरा करने के क्रम में नित नए..नए अविष्कार करने में लगा है ।

बार्क द्वारा ‘रामपत्री’ नामक पौधे के अणुओं से बनाई गई कैंसर की दवा कर्क रोग के उपचार में क्रांति लाने में सहायक हो सकती है ।

‘रामपत्री’ भारत के पश्चिम तटीय क्षेत्र में पाया जाने वाला पौधा है जिसका वनस्पति वैज्ञानिक नाम ‘मिरिस्टिका मालाबारिका’ है । इसे पुलाव और बिरयानी में सुगंध के लिए मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है ।

इससे बनाई गई कैंसर की दवा का परीक्षण चूहों पर किया जा चुका है । यह दवा फेफड़े के कैंसर और बच्चों में होने वाले दुर्लभ प्रकार के कैंसर ‘न्यूरोब्लास्टोमा’ के उपचार में बहुत असरदार साबित हो सकती है ।न्यूरोब्लास्टोमा एक ऐसा कैंसर है जिसमें वृक्क ग्रंथियों, गर्दन, सीने और रीढ़ की नर्व कोशिकाओं में कैंसर कोशिकाएं बढ़ने लगती हैं ।

इस दवा को ईजाद करने वाले बार्क के विकिरण एवं स्वास्थ्य विज्ञान विभाग के वैज्ञानिक ने बताया कि ‘रामपत्री’ फल के अणुओं में कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने की क्षमता होती है । यह विकिरण के चलते बेकार हुई कोशिकाओं को भी दुरस्त करने में मदद करते हैं ।बार्क कई वषरें से औषधीय एवं मसालों के लिए इस्तेमाल होने वाले पौधों के अणुओं से कैंसर की दवा बनाने के काम में लगा था ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here