देश के तो सबसे अमीर आदमी है ही साथ ही विश्व मे सबसे अमीर की लिस्ट में आते है ये उद्योगपति मुकेश अंबानी, भारत की  दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी के ऑनर बनने के करीब हैं। अंबानी ने डिजिटल सर्विस होल्डिंग कंपनी को बनाने के लिए 24 बिलियन डॉलर (1.6 लाख करोड़ रुपए) का एक प्लान पेश किया है। इस प्लान की मदद से भारत में इंटरनेट शॉपिंग में दबदबा बनाने की कोशिश रहेगी। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक मुकेश अंबानी के पास करीब 56 बिलियन डॉलर (3.85 हजार करोड़ रुपए) की संपत्ति है। वहीं सऊदी अरब की तेल कंपनी को रिलायंस ऑयल एंड केमिकल बिजनेस की 20 फीसदी हिस्सेदारी बेचने के बाद मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति करीब 75 बिलियन डॉलर हो गई है। ऐसे में मुकेश अंबानी की अगले कुछ साल में ई-कॉमर्स सेक्टर के निवेश की योजना है। साथ ही कंपनियों को कर्ज मुक्त बनाने का प्लान है।

डिजिटल बिजनेस के लिए पूरी तरह से एक सब्सिडियरी बनाएगी। यह ग्राहकों को डिजिटल सेवाएं प्रदान करेगा और रिलायंस जियो (Reliance Jio) की सभी ऑपरेशन कर्जों को खत्म कर देगा। जियो कंपनी के फाइनेंशियल ऑफिसर वी श्रीकांत ने बताया था कि साल 2019 की 30 सितंबर को जियो पर करीब 84 हजार करोड़ का कर्ज था, जबकि इस साल की सितंबर तिमाही में जियो का प्रॉफिट 990 करोड़ रपुए था। वहीं कुल रेवेन्यू 12,354 करोड़ रुपए था।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) ने शुरुआती तौर पर डिजिटल प्लेटफॉर्म बनाने के लिए 1,08,000 करोड़ रुपए के निवेश की इजाजत दी है। यह निवेश OCPS (ऑप्शनली कन्वर्टिबल प्रिफरेंस शेयर्स) पर अधिकार के जरिए लाइबिलिटी ट्रांसफर को प्रभावी करके किया जाएगा। कंपनी का लाइबिलिटी ट्रांसफर Jio को कर्ज मुक्त कंपनी बनाने में मदद करेगी। इसके लिए 1 अप्रैल, 2020 तक की डेडलाइन तय की गई है।

 

Naukari Mart पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here