हाल ही में की गई एक अनुसंधान से पता चला है। कि हमारे देश में धूम्रपान करने वाले के मुकाबले धूम्रपान की लत को छोड़ देने वालो की संख्या ज्यादा है। यानी की जितने लोग आज के समय में सिगरेट पी रहे हैं। उससे कई ज्यादा लोग ऐसे हैं। जो कि पहले सिगरेट को पीकर पूरी तरह छोड़ चुके हैं। इससे यह साबित होता है कि स्मोकिंग का एडिक्शन चाहे जितना भी हो और चाहे जितने समय से अब धूम्रपान करते आ रहे हो इसे छोड़ना पूरी तरह संभव है। धूम्रपान के कारण फेफड़ों में जमा हो रहे गंदगी को पूरी तरह साफ़ नहीं किया गया तो यह कई प्रकार के रोग को उत्पन्न कर देता है। क्योकि तंबाकू सिगरेट में निकोटिन पाया जाता है।

और इस निकोटिन की खास बात यह है कि हमारा और शरीफ धीरे-धीरे इसका आदतन बनाता जाता है। इसी कारण से जब कोई व्यक्ति तंबाकू खाना या सिगरेट पीना शुरू करता है। तो दिन प्रतिदिन हमारे दिमाग और शरीर की इसे झेलने की क्षमता बढ़ती चली जाती है। दिमाग अपने आपको इसके इतने अनुकूल कर देता है। कि पहले जो एक सिगरेट से हमें संतुष्टि मिल जाया करती थी। वह धीरे-धीरे 2 3 4 और 5 में बदल जाती है। इसके बाद निकोटीन हमारे शरीर के खून और दिमाग में अपनी जड़े पूरी तरह जमा लेता है। और हमारी आदत हमारी जरूरत में बदल जाती है।

शरीर में निकोटिन का स्तर थोड़ा कम होते ही हमारा दिमाग हमें सिगरेट पीने का सिग्नल देने लगता है। और धीरे-धीरे हम इतनी सिगरेट पीना शुरू कर देते हैं। जितना कि हमने पहले कभी नहीं सोचा था। रिसर्च के मुताबिक एक सिगरेट जलाने पर इसमें से लगभग 4000 अलग अलग तरीके के केमिकल्स निकलते हैं। जिसमें कि 400 बहुत ज्यादा जहरीले और लगभग 46 केमिकल कैंसर पैदा करने वाले होते हैं। यह सभी केमिकल्स हमारे खून को बहुत ज्यादा दूषित करते हैं। और यह दूषित खून शरीर के सभी दूसरे अंगों को भी प्रभावित करने लगता है।

धूम्रपान की लत धीरे धीरे हमारी स्किन और चेहरे को खराब करने लगती है। ज्यादा तनाव लेने के साथ-साथ चिड़चिड़ापन भी बढ़ता जाता है। लंबे समय तक धूम्रपान करते रहने से मर्दों की सेक्सुअल पावर और महिलाओं की फर्टिलिटी पर भी बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। और भूख कम लगने की वजह से शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। जिससे हमारा इम्यून सिस्टम पूरी तरह कमजोर पड़ जाता है। कहा जाता है कि स्वस्थ फेफड़े का रंग गुलाबी होता है। और धूम्रपान करने वाले लोगों के फेफड़े का रंग काला होता है। काली फेफड़े हमारे शरीर के पूरे खून को भी धीरे-धीरे काला बनाते जाते हैं।

ऐसे में बहुत जरूरी है कि धूम्रपान के कारण फेफड़ों में जमा हो रहे गंदगी को पूरी तरह साफ़ करके तंबाकू और सिगरेट के सेवन से हुए बुरे प्रभावों को शरीर से पूरी तरह बाहर निकाला जाए। ऐसा करने के लिए घरेलू उपाय यानी की नेचुरल ट्रीटमेंट से बेहतर और कुछ नहीं होता है। कुछ ऐसी चुनिंदा चीजें होती हैं। जिनका हमारे फेफड़ों पर सबसे ज्यादा असर होता है। और इनके नियमित इस्तेमाल से फेफड़े के साथ साथ खून को भी पूरी तरह सफाई किया जा सकता है। तो चलिए शुरुआत करते हैं सबसे पहले नुस्खे से जो धूम्रपान के कारण फेफड़ों में जमा हो रहे गंदगी को पूरी तरह साफ़ करने में सफल साबित होती है। और इसे बनाने के लिए हमें जरूरत होगी।

अदरक का रस, दालचीनी ,नींबू का रस, शहद, लाल मिर्च पाउडर की, इसमें लाल मिर्च पाउडर के लिए हमें घर में इस्तेमाल होने वाली चिल्ली पाउडर का नहीं बल्कि कायम पेपर का इस्तेमाल करना है। कायम पेपर साधारण लाल मिर्च से काफी ज्यादा फायदेमंद होती है। यह मोटी और लंबे आकार की लाल मिर्च से बनाई जाती है। इसका सेवन करना पेट किडनी लीवर और फेफड़ों के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। और साथ ही कायम पेपर के साथ शहद का मिश्रण शरीर को तेजी से सफाई करता है। यह आपको किसी भी सुपरमार्केट या फिर ऑनलाइन कम दामों में ही आसानी से मिल जाएगी।

इन सारी चीजों को मिलाकर हमें एक जूस तैयार करनी है। इसके लिए सबसे पहले लगभग डेढ़ कप पानी को अच्छी तरह उबालकर कर के एक गिलास में निकल ले। और उसके बाद इसमें आधा चम्मच कायम पेपर पाउडर आधा चम्मच दालचीनी पाउडर एक चम्मच अदरक का रस एक चम्मच नींबू का रस और दो चम्मच शहद डालकर सारी चीजों को आपस में अच्छी तरह मिक्स कर लें। इस तरह से ड्रिंक तैयार हो जाएगी। इस जूस का हमें रोजाना रात को सोने से पहले चाय की तरह से हल्का हल्का सेवन करना है। इसमें मौजूद दालचीनी और नींबू का रस फेफड़ों में जमे टार और कालेपन को निकालकर शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने करने में मदद करता है।

और साथ ही साथ शहद धूम्रपान और तंबाकू के सेवन से हुए नुकसान और इन्फेक्शन को तेज़ी से मजबूत करता है। सारी चीजों से मिलकर बनी हुई यह जूस फेफड़े को साफ़ करने के साथ साथ खून को भी साफ करती है। लगातार इसके इस्तेमाल से हमारा रेस्पिरेटरी सिस्टम मजबूत हो जाता है। और सांस लेने में पहले से ज्यादा फर्क नजर आने लगता है। इसके कुछ ही दिनों के इस्तेमाल के बाद आपको अपने शरीर की एनर्जी में भी एक कमाल का फर्क नजर आएगा। इसके अलावा धूम्रपान करने वाले लोगों को अपनी खानपान में ऐसी चीजें ज्यादा खाने चाहिए जिनमें क्लोरोफिल की मात्रा अधिक हो।

व्हीट ग्रास जूस यानी कि गेहूं के ज्वारे के रस में क्लोरोफिल भरपूर मात्रा में पाया जाता है। रोजाना इसका सेवन करने से फेफड़ों में जमी गंदगी खत्म होने लगती है। और यह खून को साफ करने के साथ-साथ उसे बढ़ाता भी है। अगर आप एक लंबे समय से सिगरेट पीते आ रहे हैं। तो व्हीटग्रास जूस के मात्र 1 हफ्ते के इस्तेमाल से ही आपको अपनी सेहत और त्वचा में फर्क दिखना शुरू हो जाएगा। इसके अलावा शरीर से तंबाकू के बुरे असर को निकालने के लिए चवनप्राश भी एक फायदेमंद औषधी की तरह काम करता है। इसके अंदर कई आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का मिश्रण होता है।

रोजाना दिन में या रात के समय चवनप्राश खाने से यह फेफड़ों के साथ-साथ शरीर के सभी अंगों को डिटॉक्स करके उन्हें शक्ति प्रदान करता है। जो लोग सिगरेट की वजह से मेहनत वाला काम करने में जल्दी थक जाते है। या फिर जिन लोगों का सिगरेट नहीं पीने पर तलब की वजह से सर दर्द होने लगता है। उन्हें रोजाना एक से दो चम्मच चवनप्राश का सेवन जरूर करना चाहिए। धूम्रपान का असर कम करने के लिए गहरी सांस और व्यायाम करना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है।

जो लोग एक अरसे से सिगरेट पीते रहते हैं। उन्हें पता भी नहीं चलता कि उनकी सांस लेने की क्षमता दूसरे लोगों के मुकाबले कम हो चुकी है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि गहरी सांस लेने की आदत डाली जाए। गहरी सांस लेना हमारे फेफड़ों के लिए एक एक्सरसाइज की तरह काम करता है। इससे फेफड़ों में जमी गंदगी भी बाहर निकलती है। और शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा भी बढ़ती है। सुबह सुबह टहलना या दौराना फेफड़ों के लिए सबसे फायदेमंद होता है। यह किसी भी दूसरे इलाज या घरेलू नुस्खों से 10 गुना ज्यादा बेहतर माना जाता है।

क्योंकि जब हमारे फेफड़े तेजी से पम्प होते हैं। तो इसकी कार्य करने की क्षमता बढाती है। और इस वजह से कमजोर हो चुके फेफड़े धीरे-धीरे पहले से भी ज्यादा हेल्दी हो जाते हैं। इसके साथ ही दिन भर में ज्यादा से ज्यादा पानी पिए। और तंबाकू खाना या सिगरेट पीना पहले के मुकाबले आधा कर दे। या पूरी तरह ही बंद कर दें। फेफड़े को साफ़ करने के लिए यह बहुत जरूरी है कि सफाई के साथ-साथ इसे गंदा होने से भी रोका जाए। नहीं तो एक तरह साफ सफाई करते जाएंगे और दूसरी तरफ सिगरेट पीने की वजह से वह दोबारा गंदे होते जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here