मुम्बई : अभिनेत्री विद्या बालन मुंबई में आयोजित एक इवेंट में पहुंची, जहां उन्होंने फिल्म की सफलता पर मिलने वाले अवॉर्ड पर बात की और कहा कि अवॉर्ड मिले तो अच्छी बात है, न मिले तो किसी और के लिए ताली जरूर बजाना चाहिए। विद्या बताती हैं कि फिल्म भूल-भुलैया के लिए जब उन्हें कोई नॉमिनेशन नहीं मिला तो बहुत बुरा लगा था, क्योंकि सब लोग उनके काम की जमकर तारीफ कर रहे थे। विद्या कहती हैं, वैसे तो मैंने खूब अवॉर्ड बटोरे हैं तो मैं खुश हूं। मेरा मानना है कि अवॉर्ड समारोहों के जरिए फिल्म इंडस्ट्री का गेट टू गेदर होना जरूरी है। रही बार अवॉर्ड जीतने की तो कभी हम जीतते हैं और कभी कोई और बाजी मारता है। हमें एक-दूसरे के लिए ताली बजाना जरूरी है।

अवॉर्ड के मामले में हमें इतना भी गंभीर नहीं होना चाहिए कि किसी के लिए दिल में क्लेश हो जाए या आप दु:खी हो जाएं। अवॉर्ड कोई और जीते तो ताली बजाकर निकल जाइए, क्या है इतना करने में। विद्या बताती हैं, मुझे याद है फिल्म भूल-भुलैया के समय मुझे नॉमिनेट नहीं किया गया था और मैं बहुत दु:खी हुई थी, क्योंकि सब लोग मुझे कह रहे थे कि परफॉर्मेंस बड़ा जबरदस्त है और अवॉर्ड में नॉमिनेशन भी नहीं मिला था। इस बात का थोड़ा सा झटका लगा था, लेकिन बाद में समझ गई थी कि यह सब होता रहता है, इतना गंभीर होने की जरूरत नहीं है।

Naukari Mart पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here