फलों, सब्जियों और खड़े अनाज से मिलने वाले कार्बोहाइड्रेट्स से भरपूर भोजन वजन कम करने और ज्यादा वजन वाले लोगों में इंसुलिन की स्थिति बेहतर बनाता है। अमरीका की गैर लाभकारी ‘फिजिशियंस कमेटी फॉर रेस्पांसिबल मैडिसिन’ ने 16 सप्ताह लंबे क्लीनिकल ट्रायल के दौरान लोगों के अलग-अलग समूहों को वनस्पति आधारित काबरेहाईड्रेट से भरपूर, कम वसा वाला भोजन दिया जबकि दूसरे समूह को सामान्य भोजन करते रहने को कहा।

‘न्यूट्रिशिएंट्स’ जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन की मुख्य लेखिका हाना काह्लेओवा का कहना है कि सामान्य तौर पर लोगों काबरेहाईड्रेट से डराया जाता है, लेकिन अध्ययनों में लगातार यह बात सामने आ रही है कि फलों, सब्जियों, दालों और खड़े अनाज से मिलने वाला स्वास्थ्यकर काबरेहाईड्रेट हमारे शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है।

अध्ययन के दौरान वनस्पति आधारित भोजन करने वाले समूहों को मांसाहार नहीं दिया गया। साथ ही, उन्हें दिन भर में सिर्फ 20-30 ग्राम वसा दिया गया। बहरहाल, उनकी कैलोरी या काबरेहाईड्रेट की कोई सीमा तय नहीं की गई। अध्ययनकर्ताओं ने एक अन्य समूह को मांसाहार और दूध से बने खाद्य सहित सामान्य भोजन करने दिया गया। इसमें से किसी भी समूह के व्यायाम के रुटीन में कोई फर्क नहीं आया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here