सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमे एक तेज रफ़्तार से जाती एम्बुलेंस को दिखया जा रहा है। आखिर वे ऐसे क्यों भाग रही ही उसके पीछे की सच्चाई हम आपको बतायेगे। उसके लिए आप निचे तक पूरा पढ़े।

गंभीर हृदय रोग से जूझ रही एक 40 दिन की बच्ची को मैंगलोर से बेंगलुरु तक पूरी यात्रा के दौरान लगभग शून्य यातायात से दिया गया। यह हादसा उस समय हुआ जब एक निजी एम्बुलेंस चालक, हनीफ बालंजा ने बच्चे को मुफ्त में फेरी लगाने के लिए सहमति दी। जैसे ही एम्बुलेंस की खबर दो शहरों के बीच वायरल हुई और पुलिस ने स्थिति से अवगत कराया, एम्बुलेंस अपने मार्ग पर शून्य यातायात के साथ मिली। एम्बुलेंस चार घंटे और बीस मिनट में बेंगलुरु के एक अस्पताल में जा पहुंची।

मैंगलोर से बेंगलुरु की दुरी लगभग 400 किलोमीटर है। वीडियो के वायरल होने के बाद से पूरा देश एम्बुलेंस ड्राइवर को सेल्यूट कर रहा है, उसके जज्बे की जिसने अपनी जान की फ़िक्र करे बिना उस बच्ची की जान बचाने के लिए अपनी जान से खेल गया।

रश्मि की माँ ने बताया सच्चाई आखिर क्यों होती थी सिद्धार्थ और उनकी लड़ाई

ये वीडियो सोशल मीडिया पर बेहद तेजी से वायरल हो रहा है, लोगो द्वारा इसे खूब पसंद किया जा रहा है।

The post 40 दिन की बच्ची को बचाने के लिए AMBULANCE ड्राइवर खुद की जान से भी खेल गया appeared first on News 7 Today.

Naukari Mart पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here