Home Blog

सावन के महीने में व्रत रहने के साथ-साथ इन बातों को त्याग दें

0

 

सावन के सोमवार अगर आप भी मन से महादेव की पूजा करते हैं और सच्चे मन से व्रत रहते हैं तो आपको अपना मन भी साफ रखना चाहिए बरना ये पूजा पथ और व्रत सब व्यर्थ है क्योंकि आप आपने मन और आत्मा को शांत रखेंगे तो महादेव भी आपसे उतने ही प्रसन्न होंगे जितना आप उन्हें करना चाहते हैं हैं आज हम आपको बताएंगे ये सावन का महीना आपको किस तरह और किस भावना से भगवान शिव के ध्यान में बिताना है आप अपने मन से कुछ ये बातें त्याग दें और सुख शांति से भगवान शिव का व्रत रहें

क्रोध करने से रहें दूर

क्रोध करना तो वैसे भी नुकसानदायक होता है। क्रोध में लिए गए फैसले अक्सर हमें हानि पहुंचाते हैं। जब क्रोध आता है तो मन की एकाग्रता और विवेक क्षीण हो जाता है। ऐसे में मन अशांत होने से की गई पूजा निष्प्रयोज्य हो जाती है। लिहाजा यह व्यर्थ हो जाती है।

किसी का अपमान न करें .

वैसे तो हमें किसी का अपमान कभी नहीं करना चाहिए। लेकिन सावन में किसी बुजुर्ग, अपने से बड़े, गुरुजनों, भाई-बहन, दोस्त, जीवन साथी या किसी निर्धन व्यक्ति का अपमान भूलकर भी नहीं करना चाहिए। सदैव इनको सम्मान दें।

बुरे विचार मन में न लाएं

घर में झगड़ा न करें

कहते हैं कि जिन घरों में क्लेश होता है, अशांति बनी रहती है वहां देवी-देवताओं का निवास नहीं होता है। झगड़ा करने से पूरे घर की शांति भंग हो जाती है। सावन में विशेष ध्यान रखें कि घर में या पति-पत्नी में विवाद न हो। एक-दूसरे की गलतियों को क्षमा करें। मन प्रसन्न रहेगा तो ध्यान भी पूजा में लगेगा और आपकी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी।

पौराणिक कथा

मान्यता के अनुसार जब देवताओं और असुरों के बीच समुद्र मंथन चल रहा था तब समुद्र से विष का घड़ा निकला। लेकिन इस विष के घड़े को न ही देवता और न ही असुर लेने को तैयार हो रहे थे। तब विष के प्रभाव को खत्म करने के लिए और समस्त लोकों की रक्षा करते हुए भगवान शंकर ने इस विष का पान किया था। विष के प्रभाव से भगवान शिव का ताप बढ़ता जा रहा था तब सभी देवताओं ने विष के प्रभाव को कम करने के लिए भगवान शंकर पर जल चढ़ाना शुरू कर दिया था। तभी से सावन के महीने में भगवान शिव का जलाभिषेक करने की परंपरा चली आ रही है।

The post सावन के महीने में व्रत रहने के साथ-साथ इन बातों को त्याग दें appeared first on Gain Knowledge.

सावन का पहला सोमवार करें ये उपाय, महादेव हो जाएंगे प्रसन्न

0

आज हम आपको बताएंगे की महादेव को खुश करने के लिए कुछ ऐसे विधियां जिन्हे कर आप अपनी सभी महोकामनाएँ पूरी कर सकते हैं महादेव को सभी देवों में सर्वोच्च माना गया है ये अपने भक्तों को कभी भी नीरस नहीं करते हैं इन्हे मनाना सभी देवों से आसान है ये अपने सच्चा भक्तों को कभी निराश नहीं करते आज हम आपको बताएंगे सावन के सोमवार में महादेव को प्रसन्न कैसे करें

भगवान शिव के प्रिय मास सावन का प्रारंभ आज से हो गया है। इसमें सबसे अच्छी बात ये है कि आज सावन के पहले दिन ही सावन का पहला सोमवार व्रत है। सावन मास में पांच सोमवार पड़ रहे हैं। सावन मास में पांच सावन सोमवार व्रत का विशेष महत्व माना गया है। सावन सोमवार का व्रत रखने वालों के लिए यह उत्तम है। संतान प्राप्ति, उत्तम स्वास्थ्य और मनोवांछित जीवन साथी के लिए यह व्रत किया जाता है। भगवान शिव की आराधना से वैवाहिक जीवन के दोषों तथा अकाल मृत्यु से मुक्ति मिलती है। आइए जानते हैं कि इस सावन के सोमवार किस तिथि को हैं, इस दिन भगवान शिव की पूजा कैसे करें, किन मंत्रों का जाप करें और व्रत की विधि क्या है?

इस वर्ष सावन के 5 सोमवार

सावन का पहला सोमवार: 06 जुलाई, 2020

सावन का दूसरा सोमवार: 13 जुलाई, 20204

सावन की तीसरा सोमवार: 20 जुलाई, 2020

सावन का चौथा सोमवार: 27 जुलाई, 2020

सावन का पांचवां सोमवार: 03 अगस्त, 2020

पूजा का समय

ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट के अनुसार, सावन में भगवान शिव की पूजा के लिए कोई विशेष मुहूर्त नहीं होता है। राहुकाल या अन्य चीजें उनके लिए मायने नहीं रखती हैं। आप प्रात:काल में भगवान शिव और शक्ति की पूजा कर लें, य​ह उत्तम है या दिन में कभी भी।

सावन सोमवार व्रत एवं पूजा विधि

आज के दिन प्रात:काल में स्नान आदि कर स्वच्छ हो लें। इसके बाद साफ कपड़े पहनें तथा पूजा स्थान की सफाई कर लें। भगवान शिव और माता पार्वती की तस्वीर या मूर्ति को गंगाजल से साफ कर लें। अब जल पात्र में गंगा जल मिला हुआ पानी भर लें। इसके पश्चात दाहिने हाथ में जल लेकर सावन सोमवार व्रत एवं पूजा का संकल्प करें।

अब ओम नम: शिवाय मंत्र का उच्चारण करते हुए भगवान शिव शंकर का जलाभिषेक करें। उनको अक्षत्, सफेद फूल, सफेद चंदन, भांग, धतूरा, गाय का दूध, धूप, पंचामृत, सुपारी आदि चढ़ाएं। कम से कम 12 बेलपत्र शिव जी को अर्पित करें। बेलपत्र चढ़ाते समय ओम नम: शिवाय शिवाय नम: मन्त्र का उच्चारण करें। अब ओम शिवायै नमः मंत्र से पार्वतीजी का षोडशोपचार पूजन करें। अब शिव चालीसा का पाठ करें तथा व्रत कथा सुनें। पूजा के अंत में भगवान शिव जी की आरती करें।

व्रती को दिनभर फलाहार करते हुए अच्छा आचरण करना चाहिए। संध्या के समय शिव पुराण का पाठ और संध्या आरती करें। इसके बाद प्रसाद वितरित करें और स्वयं ग्रहण करें तथा पारण कर लें। पूरे दिन तक व्रत करने में सक्ष्म न हों, तो सूर्यास्त के बाद पारण कर लें।

The post सावन का पहला सोमवार करें ये उपाय, महादेव हो जाएंगे प्रसन्न appeared first on Gain Knowledge.

प्रेगनेंसी के के दौरान महिलाओं को मिलते हैं ये 6 संकेत

0

शादी के बाद महिलाओं को सबसे ज्यादा परेशानी उनकी पहली प्रेगनेंसी के दौरान होती है क्योंकि ये अहसास उनको लाइफ में पहली बार होता है इसलिए उन्हें प्रेगनेंसी के दौरान कुछ भी समझ में नहीं आता की ये कैसे शुरू होती है और इसमें अपना कैसे ध्यान रखें और कैसे अपने बच्चे को जन्म दें

कुछ महिलाएं डॉक्टरों के पास जाने से घबराती हैं तो कुछ शर्माती हैं ऐसे में हम आपको बताएंगे की प्रेगनेंसी के शुरूआती समय में महिलाओं को किस तरह के संकेत मिलते हैं जिससे बह प्रेगनेंसी का पता लगा सकती है

प्रेगनेंसी किसी भी महिला के लिए एक सुखद एहसास होता है। मगर इस दौरान महिलाओं को कई शारीरिक परेशानियों से गुजरना पड़ता है। इसकी प्रमुख वजह हार्मोनल परिवर्तन है। मगर, प्रेगनेंसी की शुरूआत में ही कुछ ऐसे बदलाव आते हैं, जिनसे पता चल सकता है कि आप प्रेगनेंट हैं या नहीं। आमतौर पर प्रेगनेंसी शुरूआत में पीरियड्स आने बंद हो जाते हैं। इसे एक लक्षण माना जाता है। हालांकि प्रेगनेंसी के और भी कई लक्षण हैं:

ब्रेस्‍ट में बदलाव (सूजन या कड़ापन)
ब्रेस्‍ट की त्‍वचा के रंग में बदलाव
उल्‍टी और जी मचलाना (पीरियड्स रूकने के 8 माह के भीतर)
प्रेगनेंसी में सुबह-सुबह उठने पर कमजोरी महसूस होना
हर समय थकान महसूस होना
क्रेविंग होना यानी उल्‍टी सीधी चीजें खाने का मन करना

The post प्रेगनेंसी के के दौरान महिलाओं को मिलते हैं ये 6 संकेत appeared first on Gain Knowledge.

05 जुलाई: इन 5 राशियों पर रहेगी शनिदेव की भारी कृपा, बनेंगे बिगड़े काम

0

राशिफल से ही आपके पुरे दिन की किस्मत तय होती है ज्यादातर लोगों की राशियों में जो लिखा हुआ होता है उनके साथ भी बैसा ही होता है इसलिए हर सुबह अपनी राशि जान लेना भी लाभदायक होता है इससे आपको पुरे दिन में घटने वाली घटनाओं का ज्ञान हो जाता है इसलिए आज हम आपको बताएंगे की आपकी

12 राशियों में से हर व्यक्ति की अलग राशि होती है, जिसकी मदद से व्यक्ति यह जान सकता है कि उसका आज का दिन कैसा होगा? ज्योतिष में ग्रहों की चाल से शुभ और अशुभ घड़ियां बनती हैं, जो हमारे जीवन को प्रभावित करती हैं। अगर आपकी राशि के बारे में आज का दिन अच्छा है, तो आप उसे सेलिब्रेट कर सकते हैं, वहीं अगर आज का दिन आपके लिए खराब है तो आप पंडित जी के दिए गए सुझावों को अपनाकर कुछ अच्छा कर सकते हैं।

आज का पंचांग

दिन: शनिवार , आषाढ़ मास, शुक्ल पक्ष, चतुर्दशी का राशिफल।

आज का दिशाशूल: पश्चिम।

आज का राहुकाल: दोपहर 01:30 बजे से अपराह्न 03:00 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: जया पार्वती व्रत।

राशिफल

मेष: भाग्यवश सुखद समाचार मिलेगा। पारिवारिक दायित्व की पूर्ति होगी। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। गजकेसरी योग व्यावसायिक सफलता दे सकता है।

वृष: अधीनस्थ कर्मचारी, भाई या बहन के कारण विवाद की स्थिति आए, तो उसको टालें। स्वयं का समर्पण ज्यादा अच्छा होगा।

मिथुन: दांपत्य जीवन सुखमय होगा। जीवनसाथी का सहयोग भी मिलेगा। भय मन के किसी कोने में है, उसे निकाल फेकें।

कर्क: राजनीतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति होगी। बढ़ती हुई लोकप्रियता के कारण कुछ विरोधी तनाव देंगे। प्रतिष्ठा के प्रति सचेत रहें।

सिंह: गजकेसरी योग आज बन रहा है, जिस कारण से संतान के संबंध में सुखद समाचार मिल सकता है। शिक्षा प्रतियोगिता के परिणाम भी सुखद होंगे।

The post 05 जुलाई: इन 5 राशियों पर रहेगी शनिदेव की भारी कृपा, बनेंगे बिगड़े काम appeared first on Gain Knowledge.

सूर्य ग्रहण: इन 5 राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा प्रभाव

0

21 जून को पड़ने वाला है साल का सबसे बड़ा सूर्य ग्रहण विद्वानों का कहना है की ये सूर्य ग्रहण 500 साल बाद इतना प्रभावशाली
पड़ने वाला है ये सूरह ग्रहण सुभह 10 बजे से 2:30 तक पड़ेगा इस बीच सुहागन न्हिलायें कुछ भी नहीं करेंगी और न ही शादीशुदा पुरुष कुछ करेंगे सूर्य ग्रहण के दौरान इन 5 राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा प्रभाव जानिए किसके साथ क्या होगा

कर्क राशि
कर्क राशि भी थोड़ी सी नकारात्मकता की चपेट में आ गयी है। आर्थिंक नुकसान देखने को मिलेगा, दुर्घटना का सामना करना पड़ सकता है। नए मित्र ना बनाएं, चाहे व्यापारी मित्र हों या सामजिक मित्र। स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें। विदेश में रहने वाले लोगों के लिए ख़ास ध्यान देने की आवश्यकता है। दान करें, ख़ास तौर पर जूते दान करें या कृत्रिम पैर, तो ग्रहण का प्रभाव कम हो सकता है।

कन्या राशि
कन्या राशि वालों को अपने कार्य स्थल पर बहुत सजग रहना पड़ेगा। कर्म को सुधारने के लिए आप हर रोज़ विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें या सुनें। कर्म योग एक बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है। भगवद्गीता का दूसरा और चौथा अध्याय पढ़ें और समझें। जीवन में उतारने की कोशिश करें।

तुला राशि
तुला राशि का संबंध नव-भाव से है, जो धर्म और कानून को भी प्रस्तुत करता है। कानून तोड़ने के मार्ग पर न चलें। बिना हेलमेट के वाहन न चलाएं। माता-पिता से नियमित सम्पर्क में रहिए, उनके आशीर्वाद से ही आगे बढ़ें। धर्म-कर्म से जुड़े हुए विषय पर ज्यादा बल दें। जॉब में है तो वरिष्ठ अधिकारी के साथ संबंध बना के चलें। भावुकता में कोई निर्णय न लें। रोज पिता का आशीर्वाद ले। उनके साथ कोई विवाद न करें। गुरू की बात सुनें। उनके ज्ञान में रहे।

मकर राशि
मकर राशि वालों के लिए शुभ समय है। नई नौकरी मिल सकती है। नया व्यवसाय आरंभ कर सकते हैं, किन्तु कोई ऋण न लें। पुराने वैमनस्य को दूर करने का समय है। सकारात्मक बने रहें। मकर राशि छठे स्थान में है। स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है।

कुंभ राशि
कुम्भ राशि पंचम स्थान में है। स्वास्थ्य व परिवार के लिए समय शुभ नहीं है। बच्चों पर ध्यान देने की जरूरत है। मंत्र साधना के लिए उत्तम समय है। पंचम स्थान सन्तान कारक है, होने वाली सन्तान का ध्यान रखें। गुरु पूजा करें। तमोगुणी साधना न करें।

The post सूर्य ग्रहण: इन 5 राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा प्रभाव appeared first on Gain Knowledge.

सुसाइड या आत्महत्या जानें सुशांत सिंह की मौत का कारण

0

बॉलीवुड में तेजी से अपना नाम कमाने वाले अभिनेता सुशांत सिंह 14 जून को अपने बांद्रा स्थित फ्लेट में मृतक हालत में मिले हैं उन्होंने फांसी लगा कर आत्महत्या की थी लेकिन ये भी भी पूरी तरह सावित नहीं हुआ है की उन्होंने फांसी खुद लगाई है या किसी और ने इस मौत को खुदखुशी का रूप देना चाहा है लेकिन इस बारे में कोई और बाद सामने नहीं आई है उन्होंने अपनी आखिरी फिल्म “छिछोरे” के दौरान आत्महत्या करने वाले बेटे को जीने की सलहा देने वाले अभिनेता का खुदखुशी करना चौंका देने वाली है

मात्र 34 वर्ष की उम्र में अभिनेता सुशांत सिंह ने खुदखुशी कर ली है नजदीकियों ने खा था की बे करीबन 6 महीने से अवसाद में जी रहे थे और अपने काम और परिवार को भी समय नहीं दे रहे थे पुलिस के जाँच करने के बाद इस घटना को आत्महत्या का रूप दिया है क्यों की घटना स्थल पर कोई भी सुसाइड नॉट नहीं मिला है इसलिए इस घटना को हत्या भी माना जा रहा है

अभिनेता सुशांत सिंह के मामा आरसी सिंह ने पुलिस को हत्या का बयान दिया है क्यों की 9 जून को अभिनेता सुशांत सिंह की मैनेजर दिशा सालियान ने ईमारत से कूद कर जान दे दी थे “किस देश में है मेरा दिल” नामक सीरियल से शुरुआत करने वाले अभिनेता सुशांत सिंह ने PK M.S धोनी केदारनाथ जैसी बड़ी फैलने करने के बाद देहांत हो गया अभिनेता सुशांत सिंह की मौत को लेकर पुलिस जाँच में लगी हुई है

The post सुसाइड या आत्महत्या जानें सुशांत सिंह की मौत का कारण appeared first on Gain Knowledge.

इस फल के सेवन से आपका शरीर बन जाएगा फौलाद, चमत्कारी नुस्खा

0

अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लोग क्या-क्या करते हैं कोई जिम जाता है तो कोई व्यायाम करता है कोई कुछ खाता है तो कोई कुछ लेकिन फिर भी लोग अपने शरीर को फिट रखने के लिए नए-नए तरिके ढूंढते रहते हैं लेकिन उनका शरीर कमजोरी से उभरने को तैयार ही नहीं है खून की कमी मसल्स का न बढ़ना थकबाट रहना ऐसे में लोग मेडिसन का सहारा लेना शुरू कर देते हैं लेकिन ये उनके लिए बेहद ही नुकसान दायक हो जाता है लेकिन आज हम आपको एक ऐसे फल के बारे में बताने वाले है जसके सेवन से आपके शरीर में खून की कमी पूरी हो जाएगी और आपका शरीर फौलाद जैसे बन जाएगा

हम जिस फल की बात कर रहे हैं वह अगर आप लगातार 7 दिनों तक फालसा के जूस का सेवन करते हैं तो यह आपके शरीर में खून की कमी को पूरा कर देगा और आपके शारीरिक कमजोरी को दूर कर देगा इसके साथ ही यह है। फालसा का फल सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है या शरीर में खून की कमी को पूरा करके शारीरिक कमजोरी को दूर करने में सहायक होता है। औषधि और गुणकारी फल होता है जो शरीर में ब्लड की कमी को दूर करता है।

फालसा का फल का सेवन करने से अनेक प्रकार की बीमारी दूर हो जाती है फालसा का फल बहुत ही शक्तिशाली होते हैं जिसे बहुत ही कम लोग जानते हैं। फालसा के फल में आयरन प्रोटीन कैल्शियम इसके साथ ही फेलीकल एसिड प्रचुर मात्रा में पाई जाती है जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। यह फल रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी सहायक होता है जिससे शरीर अनेक रोगों से लड़ने में सक्षम होता है।

अगर आप लगातार 7 दिनों तक फालसा के जूस का सेवन करते हैं तो यह आपके शरीर में खून की कमी को पूरा कर देगा और आपके शारीरिक कमजोरी को दूर कर देगा इसके साथ ही यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर अनेक रोगों से आपके शरीर की रक्षा करेगा। खालसा की फिल्म में आयरन प्रचुर मात्रा में पाई जाती है जो खून की कमी को पूरा करने में सहायक होता हैं

The post इस फल के सेवन से आपका शरीर बन जाएगा फौलाद, चमत्कारी नुस्खा appeared first on Gain Knowledge.

क्वारनटीन सेंटर के खाने में कीड़े देख मजदूरों ने मचा तोड़-फोड़

0

इस Lockdown के दौरान सबसे ज्यादा परेशानी मजदूरों को हो रही है एक तो घर से दूर और कमाने-खाने का कोई भी साधन नहीं लाखों की संख्या में मजदूर पैदल ही अपने घरों को निकल पड़े हैं लेकिन ऐसे में उनकी हालत बहुत ही गंभीर है रस्ते में जो मिलजाए वही खा लेते हैं जहां मिले वहीं सो जाते हैं कुछ मजदूरों को तो खाना भी नसीब नहीं हो रहा वे भूंख से ही तड़प रहे हैं न कोई घर जाने का साधन है और न ही कोई सुविधा लेकिन सरकार ऐसे में बीएस और ट्रेने चलकर इन मजदूरों की मदद कर रही है

वापस लोट रहे मजदूरों को सरकार क्वारनटीन सेंटर में चेकअप के लिए कुछ दिन रोकती है इन कुछ समय में वहां पर उन्हें खाना और रहने की व्यवस्था का सरकार पूरा ध्यान रख रही है लेकिन जब मिलने वाले खाने में कीड़े देखे तब मजदूरों ने पुरे क्वारनटीन सेंटर में हंगामा मचा दिया

मजदूरों का आरोप है कि पिछले कई दिनों से इस तरह का गंदा खाना उन्हें दिया जा रहा है. शिकायत करने के बावजूद खाने की गुणवत्ता में कोई सुधार नहीं हुआ. इस क्वारनटीन सेंटर में खूब मच्छर भी हैं, जिनके काटने से मजदूरों के शरीर पर जख्म हो गए हैं. इसके लिए मच्छरदानी की मांग कई बार की जा चुकी है. लेकिन कोई सुनने के लिए तैयार नहीं है.

गोपालगंज के बीडीओ पंकज कुमार शक्तिधर ने तत्काल भोजन हटाने और साफ खाना तैयार करने के आदेश दिए हैं. एक प्रवासी मजदूर राज कुमार का कहना है कि खाने में कीड़े तो रहते ही हैं साथ में घुन और धान के अलावा थालियां भी साफ तरह से नहीं धुली जाती हैं. इसे लेकर कई बार शिकायत की गई लेकिन किसी ने नहीं सुनी.

 

The post क्वारनटीन सेंटर के खाने में कीड़े देख मजदूरों ने मचा तोड़-फोड़ appeared first on Gain Knowledge.

मंगलवार के दिन करें ये 5 काम, खुल जाएगा भाग्य

0

मनुष्य को जीवन में कामयाव होने के लिए कर्म के साथ-साथ भाग्य का साथ चलना भी बेहद जरुरी होता है तभी उसे अपने कामों में पूर्ण रूप से सफलता मिलती है लेकिन कुछ लोगों का भाग्य उनके कर्मों पर निर्भर करता है और कुछ लोगों का भाग्य भगवान् के हाथ में होता है अगर मनुष्य चाहे तो अपना भाग्य बदल सकता है लेकिन कुछ उपाय उसे अपने जीवन में अपनाने पड़ते हैं अगर आप मंगलवार के दिन ये 5 काम करेंगे तो आपका भाग्य भी आपका साथ देगा

मंगलवार को भगवान हनुमान जी का दिन माना जाता है और हनुमान जी को सभी देवों में सबसे शक्तिशाली देव माना जाता है और उनकी सेवा करना हर मनुष्य के वस की बात नहीं होती लेकिन आज हम आपको 5 ऐसे उपायों के बारे में बताएंगे जिनका पालन कर आप हनुमान जी की प्रसन्न कर सकते है

1. भगवान श्री राम की भक्ति और सेवा के लिए श्री हनुमान जी का पूरा जीवन समर्पित था। साथ ही उन्होंने आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन भी किया। हनुमान भगवान महा प्रभु का आशीर्वाद जिन लोगों को भी चाहिए होता है वह ब्रम्हचर्य का पालन करें। अगर हनुमान जी की पूजा कोई विवाहित भी करता है तो उसे पूजा वाले दिन ब्रम्हचर्य का पालन अवश्य करना चाहिए।

2. पवित्रता व साफ-सफाई का विशेष महत्व हनुमान जी की पूजा में होता है। भूल से भी पूजा पर बिना स्नान किए नहीं बैठना चाहिए। इतना ही नहीं पूजा स्थल को साफ रखें साथ ही स्वस्थ व साफ कपड़े पूजा के समय पहने। हनुमान जी जल्दी है प्रसन्न ऐसा करने से हो जाते हैं।

3. अगर आप मांसाहारी हैं तो हनुमान जी की पूजा भूलकर भी ना करें। हनुमान जी ऐसे व्यक्ति पर भी क्रोधित हो जाते हैं और दंड देते हैं। हनुमान जी के भक्त को शाकाहारी जीवन जीना चाहिए।

4. श्री हनुमान चालीसा का पाठ मंगलवार के दिन 7 बार करने से हनुमान जी प्रसन्न हो जाते हैं और हमेशा अपनी कृपा बनाए रखते हैं।

5. हनुमान जी को सीधे वस्त्र या चोला स्त्रियां अर्पित ना करें। अगर उन्हें ऐसा करना है तो अपने पुत्र या पति के द्वारा करा सकती हैं। अगर स्त्रियां सीधे वस्त्र अर्पित करती हैं तो हनुमान जी उनसे क्रोधित हो जाते हैं और दंडित करते हैं।

The post मंगलवार के दिन करें ये 5 काम, खुल जाएगा भाग्य appeared first on Gain Knowledge.

इस शनि जयंती पर इन 5 राशियों की बदलेगी किस्मत, होगी धन की वर्षा

0

कर्मफल दाता शनि देव को सभी देवों में सबसे बढ़कर माना गया है क्योंकि ये सेवा से कम और मनुष्य के कर्मों से ज्यादा प्रसन्न होते हैं है शनि जयंती इस साल शुक्रवार, 22 मई को मनाई जाएगी. ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि पर शनि देव का जन्म हुआ था, इसलिए ज्येष्ठ अमावस्या वाले दिन शनि जयंती मनाई जाती है और इस साल ग्रहों के शुभ संयोग के कारण इन 5 राशियों पर शनि देव की पूरी मैहर होगी और सभी बिगड़े काम भू पुरे हो जाएंगे

मेष- मेष राशि के जातकों के लिए शनि जयंती बेहद खास और शुभ रहने वाली है. व्यापार और धन लाभ के योग बन रहे हैं. शनि कर्म भाव में हैं. निश्चित ही नए कार्य का अनुभव होगा. नए कार्य में में हाथ डालने के लिए यह बेहद शुभ घड़ी है. गुप्त रूप से धन की प्राप्ति होगी और आय के नए स्रोत भी उत्पन्न होंगे. दूसरों को परेशान न करें. सुंदरकांड या हनुमान चालीसा का पाठ करें.

सिंह- सिंह राशि के जातकों के लिए शनि जयंती पर मिला-जुला परिणाम मिलेगा. शनि देव आपकी राशि के छठे भाव में उपस्थित रहेंगे. नया कार्य शुरू करने के लिए यह बेहद अच्छा समय है. हालांकि इस दौरान शत्रु पक्ष आपके लिए बड़ी समस्या खड़ी कर सकता है. इस दिल काली उड़द की दाल दान करने से आपके शत्रुओं का नाश होगा.

तुला- शनि जयंति पर शनिदेव तुला राशि के चौथे भाव में होंगे. समाज में प्रतिष्ठा बढ़ेगी. मेहनत करने से सफलता मिलेगी. नौकरी व्यापार के मामले में सब ठीक रहेगा. धन लाभ के योग भी बन रहे हैं. खर्चे कम होंगे और कर्ज से मुक्ति भी मिलेगी. शमी के वृक्ष को जल अर्पित करने से आपका भाग्योदय हो सकता है.

वृश्चिक- वृश्चिक राशि के जातकों को इस दौरान थोड़ा संभलकर रहने की जरूरत होगी. शनि आपके पराक्रम भाव में हैं. गुप्त शत्रुओं से आपको बेहद सावधान रहना होगा. हालांकि नया कार्य शुरू करने के लिए यह अच्छा समय है. लंबे वक्त से अटके कार्य पूरे होंगे. शनि जयंती के बाद हर शनिवार को गरीबों की यथासंभव मदद करने से आपको दोगुना लाभ मिलेगा.

कुंभ- शनि जयंती पर ग्रहों का संयोग कुंभ राशि के जातकों को बहुत ज्यादा लाभ नहीं देगा. इसके विपरीत आपके खर्चों में वृद्धि हो सकती है. सीमित संसाधनों के साथ धन आता रहेगा. स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की भी जरूरत है. सफलता प्राप्त करने के लिए अधिक संघर्ष करना होगा. नीलम का रत्न धारण करने से शनि की साढ़े साती का प्रभाव कुछ कम हो सकता है.

The post इस शनि जयंती पर इन 5 राशियों की बदलेगी किस्मत, होगी धन की वर्षा appeared first on Gain Knowledge.